Menu
Toll Free Number : 1800-103-4353
Missed Call Number : +91-7208048100

सदस्यता के लिए आवेदन और आरसीएमसी

सदस्य बनने के लाभ ( हिन्दी / इंग्लिश)
सदस्य बनें ( हिन्दी / इंग्लिश )
सदस्यता नवीनीकरण की प्रक्रिया ( हिन्दी / इंग्लिश )
पंजीकरण सहित सदस्यता प्रमाणपत्र के लिए प्रक्रिया ( आरसीएमसी ) ( हिन्दी / इंग्लिश)
पहले से ही एक सदस्य हैं तो, साइन इन करने के लिए यहां क्लिक करें Sign in
महत्वपूर्ण

जीजेईपीसी सेवाओं के साथ एक उन्नत अनुभव देने के लिए जीजेईपीसी पोर्टल को उन्नत किया जा रहा है। आप सभी जीजेईपीसी सेवाओं इत्यादि का उपयोग कर सकेंगे। ट्रेड शो सेवाएं, सदस्यता सेवाएं, किम्बर्ली प्रक्रिया सेवाएं और पासवर्ड एवं यूजरनेम के माध्यम से और अधिक सेवा।

पंजीकरण सह सदस्यता प्रमाणपत्र ( आरसीएमसी नं. )

निर्यात संवर्धन परिषदों का मूल उद्देश्य देश के निर्यात को बढ़ावा देना और विकसित करना है। प्रत्येक परिषद उत्पादों के एक विशेष समूह के प्रचार के लिए उत्तरदायी है।पॉलिसी के पैरा 2.93 के अनुसार, किसी भी व्यक्ति को लाइसेंस की अनुमति के लिए आवेदन करने / प्रमाण पत्र / आयात या निर्यात करने की अनुमति, (नीति के अनुसार प्रतिबंधित वस्तुओं को छोड़कर) आयात और निर्यात नीति के तहत किसी भी अन्य लाभ या रियायत के लिए, जब तक कि पॉलिसी के तहत विशेष रूप से छूट नहीं दी जाती है, तो सक्षम प्राधिकारी द्वारा सदस्यता प्रमाण-पत्र सह पंजीकरण प्रदान किया गया है। रत्न तथा आभूषण के निर्यातकों को स्वयं रत्न तथआ आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद के साथ पंजीकृत करना चाहिए जैसा कि 2015-2020 की प्रक्रिया पुस्तिकाओं के अध्याय 2 में दर्शाया गया है। इस प्रयोजन के लिए कोई भी निर्यातक एएनएफ 2 सी के पंजीकरण में आवेदन और ईपीसी का सदस्य बन कर एक निर्यातक बन सकता है। सदस्यता स्वीकृत होने पर, आवेदक को तत्काल ईपीसी के पंजीकरण-सह सदस्यता प्रमाण पत्र (आरसीएमसी) प्रदान किया जाएगा, जो परिशिष्ट 2 आर में दिए गए प्रारूप में है। यदि निर्यातक एक निर्माता निर्यातक के रूप में पंजीकरण करना चाहता है, तो वह उससे संबंधित सूबत प्रस्तुत करके प्रभावी हो सकता है। संभावित / सशक्त निर्यातक भी आवेदन कर ईपीसी के एक सहयोगी सदस्य बन सकते हैं।

पंजीकरण-सह-सदस्यता के लिए आवेदन निम्नलिखित दस्तावेजों के साथ किया जाना चाहिएः-
  • ंबंधित लाइसेंसिंग अधिकारियों द्वारा जारी आईईसी नंबर की एक स्व-प्रमाणित प्रति।
  • निर्माता निर्यातक के रूप में पंजीकरण की मांग के मामले में एसएसआई / आईईएम / एमएसएमई (उद्योग आधार ज्ञापन) प्रमाण पत्र जरूरी है।
  • साझेदारी फर्मों के मामले में कम्पनियों / साझेदारी के मामले में मेमोरेन्डम और आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन की प्रति।

आवेदन प्रपत्र को एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के दूसरे सदस्य निर्यातक द्वारा प्रायोजित किया जाना चाहिए, जो आवेदक की सहयोगी संस्था नहीं है। उन्हें रत्न तथा आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद का सदस्य भी होना चाहिए। जांच और संतुष्टि के पश्चात, यदि आवेदक डिफॉल्टर नहीं है, तो परिशिष्ट 4 ए में दिए गए प्रारूप में पंजीकरण सह सदस्यता प्रमाणपत्र उन्हें जारी किया जाता है। अगर निर्यातक के स्वामित्व / संविधान / नाम या पते में कोई परिवर्तन है, तो इसे ऐसे परिवर्तन की तारीख से 30 दिनों के अंदर आरसीएमसी में विधिवत शामिल होना चाहिए। गुणदोष के आधार पर देरी करने पर पंजीयन प्राधिकरण पंजीकरण रद्द कर सकता है। यह प्रमाणपत्र पांच वर्ष की अवधि के लिए वैध है, लाइसेंसिंग वर्ष के अंत ( अर्थात 31 मार्च तक ) तक जारी। सदस्यता शुल्क का भुगतान हर साल 30 अप्रैल तक किया जाना चाहिए, जिसके कारण असफल रहने पर निर्यातक अपनी सदस्यता खो देता है और मतदान के लिए पात्र नहीं रहता है। पंजीकरण एक निर्माता निर्यातक के रूप में या तो व्यापारी निर्यातक के रूप में जारी किया जाता है। एक निर्माता निर्यातक वह होता है सामान स्वयं आयात करता है और निर्यात करने के लिए बनाता भी है। एक निर्माता निर्यातक एसएसआई (लघु श्रेणी उद्योग ) प्रमाण पत्र या आईईएम (औद्योगिक उद्यमी ज्ञापन), एमएसएमई (उद्योग आधार ज्ञापन) प्रमाण पत्र रखता है। जो व्यापारी कच्चे माल का आयात करेगा, उन्हें जॉबवर्क के काम / अनुबंध के आधार पर तैयार करा कर और तैयार उत्पादों का निर्यात करेगा वह निर्यातक व्यापारी ( मर्चंट एक्सपोर्टर ) होगा। निर्यातक निर्यात संवर्धन परिषद ( ईपीसी ) को अपने विभिन्न वस्तुओं के निर्यात की त्रैमासिक परावर्तन ( रिटर्न ) प्रस्तुत करेगा। स्थिति धारकों को एफआईईओ को भी मासिक रिटर्न भेजना होगा। उल्लंघन करने पर एक्सपोर्ट प्रमोशन काउन्सिल आरसीएमसी धारक की पंजीकरण की स्थिति को निरस्त कर सकता है। ऐसा करने से पहले, निर्यातक को कारण बताओ नोटिस और प्रस्तावित डी-पंजीकरण के खिलाफ प्रतिनिधित्व करने के लिए एक पर्याप्त और उचित मौका दिया जाएगा।एक बार पंजीकरण रद्द हो जाने पर, ईपीसी द्वारा सभी लाइसेंस अधिकारियों को सूचित किया जाएगा।

videos on the Indian industry :

India Your First Choice
India – Where Diamonds Come Alive!
Jewellers for Hope

Upcoming Events